Ticker

6/recent/ticker-posts

What is Catalytic Converter in Hindi कैटेलिटिक कनवर्टर किसे कहा जाता हे।

कैटेलिटिक कनवर्टर का इतिहास / History of catalytic converters

पहेली बार कैटेलिटिक कनवर्टर को अमेरिका में पहचाना गया था और वाहा से उसका नाम दुनिया भर में प्रसिद्ध हुआ था। 

कैटेलिटिक कनवर्टर का invention ख़ोज 1950 में अमेरिका के यूजीन हाउड्री (Eugene Houdry) ने की थी जो एक फ्रेंच केमिकल इंजीनियर थे। 


Catalytic Converters किसे कहा जाता हे।  

Catalytic converter एक exhaust emission control यंत्र हे जो टॉक्सिक गैस को कम टॉक्सिक गैस में कन्वर्ट करता हे।  आम तौर पर catalytic converters का प्रयोग internal combustion engines ( जो gasoline या diesel के रुप में होते हे) उसमे या lean burn इंजन में किया जाता हे। और कभी कभी इसका इस्तेमाल heaters और stoves में भी किया जाता हे।  


What is Catalytic Converter in Hindi  कैटेलिटिक कनवर्टर किसे कहा जाता हे। 

catalytic converters का इस्तेमाल सबसे ज्यादा automobile में exhaust systems में किया जाता हे। इसके आलावा इनका प्रयोग Forklift, Buses, Trucks, motorcycles, Electrical generator और माइनिंग के साधनो में किया जाता हे। कभी कभी इनका प्रयोग wood stoves में भी emission को control करने के लिए किया जाता हे। और catalytic converters का इस्तेमाल ना केवल इंसानो के health  के लिए अच्छा हे बल्कि एनवायरनमेंट के लिए भी बेहद लाभ कारक हे 


Automobile में कैटेलिटिक कनवर्टर का इस्तेमाल क्यू किया जाता है। 

Catalytic converter in hindi
Catalytic converter 

क्यों की जब car road पर चलती हे तब diesel और petrol का internal combustion engine में आतंरिक दहन होता हे। और फिर उसका धुआँ आस पास के लोगो को सीधे तोर पर हानि पोहोचता हे। और इसी प्रकार के hydrocarbon और gas को प्रदूषण रहित करने के लिए latest technology वाले कैटेलिटिक कनवर्टर (Catalytic Converter) का इस्तेमाल किया जाता है। इसलिए vehicles में ऐसे catalytic का प्रयोग होता हे।  
Catalytic converter में catalyst नाम का एक पदार्थ  होता हे जिसके कारण कन्वर्टर के अंदर reactions होते हे जो प्रदूषण  गैस को प्रदुषण रहित गैस में कन्वर्ट करता हे।

कैटेलिटिक कनवर्टर exhaust pipe से इंजन के पास जुड़ा हुआ होता हे। Engine के अंदर से आने वाला धुआं जब कैटेलिटिक कनवर्टर में जाता हे तब धुआँ प्रदूषण मुक्त होकर vehicle के Exhaust pipe से होकर बहार निकल जाता हे। 

इस converter के अंदर एक मधुमखी के छत्ते जैसी दिखने वाली ceramic की बानी हुई जाली होती हे।  जिसके ऊपर कैटेलिस्ट की परत चढ़ी होती है। और जब pollutant gas इससे होकर गुजरती हे तब यह गैस कैटेलिस्ट की परत से होकर जाती हे और तब यह converter दुसित गैस को प्रदूषणरहित गैसों में बदल देता हे।  


How Catalytic Converter works कैसे काम करता है कैटेलिटिक कन्वर्टर्स 

Engine के धुएँ में मुख्य 3 प्रकार के पदार्थ होते हे जिसमे Carbon(C) ,Monoxide (CO),NO,NO2 जैसे नाइट्रोजन के ऑक्साइड और unburned hydrocarbons शामिल होते हे। इन सभी अप्रदूषक गैसों को प्रदूषण-रहित गैसों में कन्वर्ट करना ही कैटेलिटिक कनवर्टर का काम है।

आज के आधुनिक गाड़ियों में इस्तेमाल होने वाला कैटेलिटिक को थ्री-वे कैटेलिटिक कनवर्टर कहा जाता हे। जबकि पहले टू-वे कनवर्टर का प्रयोग किया जाता था। जो केवल कार्बन मोनोऑक्साइड (CO) और हाइड्रोकार्बन कंपाउंड्स को कनवर्ट करते थे।

अभी इस्तेमाल होने वाले कैटेलिटिक को इसलिए थ्री-वे कहा जाता हे क्योंकि इसके अंदर मुख्य तीन कार्य होते हैं।  

1 ] कार्बन मोनोऑक्साइड (CO) को ऑक्सीडेशन [Oxidation] या ऑक्सीकरण के जरिए कार्बन डाईऑक्साइड (CO2) में बदल देना। 

2] अधजले हाइड्रोकार्बन (Unburned HC) यौगिकों को ऑक्सीडेशन के माध्यम से CO2 और पानी (H2O) में बदलना

3] NO2 और NO को रिडक्शन रिएक्शन [Reduction] या अवकरण के जरिए नाइट्रोजन (N2) गैस  में बदलना। 

कनवर्ट होने के बाद वाहन के साइलेंसर से जो प्रॉडक्ट्स वातावरण में छोड़े जाते हैं वे प्रदूषणरहित कार्बन डाईऑक्साइड, नाइट्रोजन गैस और जलवाष्प होते हैं, और इस तरह सड़क का वातावरण और हमारा परिवेश वाहन के धुएं से प्रदूषित नहीं होता।


limitations of Catalytic Converters  कैटेलिटिक कनवर्टर की कमियां। 

1] कैटेलिटिक कन्वर्टर्स तभी काम करता हे जब इनके अंदर की गैसों का Temperature कम से कम 300 degree Celsius हो। और temperature को इतनी degree तक ले जाने के लिए गाड़ी को चालू करके कुछ समय तक रखा जाता हे।  लेकिन इस दर्मिया गाड़ी से निकलने वाला धुआँ वातावरण को और इंसान के शरीर दो को नुकशान पोहोचता हे।  

2] किसी भी vehicles में ईंधन (Fuel) के रूप सीसा रहित फ्यूल यानी की unleaded fuel का इस्तेमाल होना चाहिए क्युकी अगर ऐसा नहीं होता हे तो इससे कैटेलिस्ट दूषित हो जाता हे।

दोस्तों अबतो आप बिलकुल समज ही गए होंगे की गाड़ियों में आखिर कैटेलिटिक कनवर्टर लगाना इंसानो और पर्यावरण के लिए कितना लाभ दायक होता हे।  इसलिए भारत में भी 2020 से लागू किए गए BS-6 इंजन वाले Vehicles में इसका इस्तेमाल अनिवार्य कर दिया गया है।


Types of catalytic converters in Hindi . कैटेलिटिक कनवर्टर के प्रकार 

कुल 5 प्रकार के कैटेलिटिक कन्वर्टर्स होते हे।  






Catalytic converter की क़ीमत इतनी ज्यादा क्यू होती हे।  

Catalytic converter की क़ीमत ज्यादा होने का सबसे बड़ा कारण उसमे रही Metals के कारण हे। क्योंकी इसमें प्लैटिनम (platinum), पैलेडियम (palladium) और रोडियाम (Rhodium) जैसी कीमती धातुएं (valuable metals) पायी जाती हे। 
दोस्तों अगर आपको नहीं पता हो तो में बता  दू की Rhodium,palladium और platinum ये तीन धातु दुनिया की सबसे क़ीमती धातु मेसे एक हे।  

Price of precious metals |  मूल्यवान धातु की क़ीमत 

  • Rhodium price per gram - Rs 40698 

  • Palladium price per gram - Rs 5477 
  • Platinum price per gram - Rs 2417  

दोस्तों जैसा की आप ऊपर देख सकते हे की इन तीनो metals मेसे सबसे कीमती metal rhodium है।  उसके बाद Palladium और Platinum हे।  

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ